Total Pageviews

Wednesday

...तो नष्ट हो जाएगी पृथ्वी!

यह कोई नहीं जानता कि पृथ्वी पर जनजीवन का अंत कैसे होगा, लेकिन वैज्ञानिकों का दावा है कि इससे पहले कि पाँच अरब वर्ष में सूर्य पृथ्वी को जला डाले बुध या मंगल ग्रह के साथ टक्कर से हमारा ग्रह नष्ट हो सकता है। दो अलग-अलग अध्ययनों में पाया गया है कि सौरमंडल के ग्रह अपने कक्षों में करीब चार करोड़ वर्ष तक सूर्य की लगातार परिक्रमा करते रहेंगे, लेकिन उसके बाद संभावना है कि अगले पाँच अरब वर्ष में बुध ग्रह की कक्षा अव्यवस्थित हो जाए। अध्ययन में दावा किया गया है कि इससे पूरी सौर प्रणाली अस्थिर हो जाएगी परिणास्वरूप बुध या मंगल ग्रह की पृथ्वी से टक्कर हो सकती है जिससे उस समय तक मौजूद किसी भी तरह का जनजीवन समाप्त हो जाएगा। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के एक शोधकर्ता के हवाले से न्यू साइंटिस्ट ने कहा है कि मंगल ग्रह के साथ टक्कर की स्थिति में तुरंत ही सारा जनजीवन नष्ट हो जाएगा और पृथ्वी किसी रेड जॉइंट के तापमान पर करीब एक हजार साल तक दहकती रहेगी। दूसरे अध्ययन में जॉक लस्कर पेरिस की वेधशाला में कंप्यूटर पर सौर प्रणाली की प्रक्रिया की अनुकृति का अध्ययन इस नतीजे पर पहुँचे कि एक या दो फीसदी में वृहस्पति ग्रह के गुरुत्वाकर्षणीय खिंचाव के कारण कुछ समय के लिए बुध की कक्षा काफी लंबी हो गई।

No comments: