Total Pageviews

Friday

दिलों को दूर करती दौलत

  • महेश परिमल
जो जीवन में केवल सम्पत्ति को ही सब कुछ मानते हैं, उनके लिए बुरी खबर। जीवन में धन ही सब-कुछ नहीं है। इससे बढ़कर भी दुनिया में ऐसा बहुत-कुछ है, जिसे पाकर हम खुश हो सकते हैं, गर्व का अनुभव कर सकते हैं। निश्चय ही आप सोच रहे होंगे कि यह तो उचित नहीं है। लेकिन सच तो यही है कि आज जितना महत्व धन का है, उससे अधिक महत्व सुख का है। अब यह बात अलग है कि हमने ही इन सुखों को दो भागों में विभाजीत कर एक मायावी सुख की लालसा में रहते हैं। आज लोग जिस सुख के पीछे भाग रहे हैं, वह क्षणिक है। इसे समझना हो, तो उस दम्पति की व्यथा से समझा जा सकता है, जब वे गरीबी के बीच अपना जीवन गुजार रहे थे, अचानक उन्हें जैकपॉट में बेतहाशा धन मिला। इस धन से उन्होंने तमाम भोतीक सुख की प्राप्ति कर ली, पर जो फाके-मस्ती वाले जीवन में था, वह बेशुमार धन के ढेर पर बैठकर नहीं मिला।
आज हमने सुख को विभाजीत कर दिया है। एक भौतिक सुख दूसरा आत्मिक सुख। इसे हम एसी की ठंडी हवा और नीम के पेड़ के नीचे बैठकर ठंडी हवा के झोंके की संज्ञा दे सकते हैं। जिन्होंने इन दोनों ही तरह की हवा के मो लिए हैं, वे अच्छी तरह से जानते हैं कि किस तरह की हवा अच्छी लगती है। देखा जाए, तो आत्मिक सुख ही जीवन जीने मूलमंत्र है। कोई दौलतमंद है और सुखी है, इस बात में अब सच्चाई नहीं रही। इसके बाद भौतिक सुख की प्राप्ति के लिए अधिक से अधिक धन संग्रह करना याने मुसीबतों को आमंत्रित करना है। जो लोग कहते हैं कि पैसा तो हाथ का मैल है, ऐसे लोगों को आज की पीढ़ी माफ करने वाली नहीं है, परंतु समय पर कमाया हुआ धन और समय पर खर्च किया गया धन भी सुखमय सांसारिक जीवन नहीं दे सकता, यह सच है। बेशुमार धन के बीच भी एक अच्छी गहरी नींद के लिए तरसते रहते हैं, शायद इस सच को वे ही समझते हैं, जो सालों से गहरी स्वाभीवित नींद नहीं ले पाए हैं।
अब बात उस दम्पति की, जिनकी शादी को अधिक समय नहीं हुआ था। पति कूग पोप 23 वर्ष का था और उसकी पत्नी कलेर आवन 25 वर्ष की थी। उन्हें रहने और खाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती थी। जीवन फाके मस्ती में कट रहा था। फिर भी वे खुश थे। कुछ नहीं था, पर प्यार और अपनापे की बेशुमार दौलत उनके पास थी। वे दु:खी रहकर भी सुख के क्षणों को पा ही लेते थे। ऐसे में उनकी पुत्री सेरेन के जन्म के बाद उन्हें 50 लाख पाउंड का जैकपॉट लग गया। इसके पहले दस हजार पाउंड का कर्ज था, जिसे देने के लिए वे जद्दोजहद कर रहे थे। वे अपनी पुत्री सेरेन को क्रिसमस गिफ्ट भी देने की स्थिति में नहीं थे। लेकिन जैकपॉट लगते ही उनका जीवन ही बदल गया। अब वे अपना दो रुम वाला फ्लैट छोड़कर स्वीमिंग पूल वाले विशाल बंगले में रहने लगे। विश्व के तमाम भौतिक सुख उनके कदमों पर थे। वे अपने आपको सबसे सुखी परिवार मान रहे थे। लेकिन यह भौतिक सुख वास्तव में सुख नहीं था। दौलत के आते ही तमाम बुराइयाँ भी आने लगी। पति कूगपोप को पत्नी बुरी लगने लगी। इसलिए उसने अपने लिए एक गर्लफ्रेंड ढूँढ ली। इसका नाम एलाइस था। दोनों साथ-साथ घूमने लगे, कुछ समय बाद कूगपोप अपने घर से 100 मील दूर अपनी गर्लफेरंड के साथ रहने चला गया। कुछ समय बाद दोनों में तलाक हो गया। लाखों पाउंड के मालिक बनने के बाद उनके जीवन से असली सुख दूर चला गया। दोनों ने स्वीकार किया कि जब वे कड़के थे, तब अधिक सुखी थे।
आज भीतर के सुख को प्राप्त करने की सीख देने वाले देश भर के तमाम साधु-संतों की सम्पत्ति पर एक नजर डालें, तो स्पष्ट हो जाएगा कि वे स्वयं भी कतई सुखी नहीं हैं। क्या ये दौलत उन्हें खुशी दे सकती है? लेकिन आज उनकी सम्पत्ति को देखकर यही लगता है कि वे न जाने किस सुख की बात करते हैं। वास्तव में देखा जाए, तो जिस सुख को हम बाजार में खरीदने जाते हैं, वह हमारे भीतर ही है। घर में तमाम सुख-सुविधाएँ से सुसज्जित हो जाए, तब भी हमें ऐसा लगेगा कि कुछ बाकी रह गया। साल भर पिज्जा या फास्ड फूड खाने वाला यदि एक दिन माँ के हाथ की जली रोटी ही खा ले, तो वह सारे स्वाद भुल जाएगा। पर वह जली रोटी मिले कहाँ से? उसने तो पिज्जा में ही जीवन का असली सुख ढूँढ़ने की कोशिश की है, वह भला कैसे मिलेगा?
सुखी होने किताब बेचने वाले किताब से लाखों कमा लेते हैं, पर सुख नहीं कमा पाते। सुख के संबंध में कई पोथियाँ लिखी गई हैं, पर असली सुख की चावी कहाँ है, यह कोई नहीं बता पाया है। लोगों के हाथ में जो नहीं है, वे उसे पाने की जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं। लेकिन जो उनके पास है, उसका उपयोग नहीं कर पा रहे हैं। हर हाल में खुश रहने वाले संभवत: असली सुख प्राप्त कर सकते हैं। कोई सुख के लिए घर बसाता है, तो कोई सुख के लिए घर छोड़ता है। जीवन के एक-एक क्षण को जीने की कोशिश करो, यही सुख की सही व्याख्या है।
आज हम सभी एक दूष्टिभरम में जी रहे हैं। जो वास्तव में सुख है, उसकी तरफ हमारा ध्यान ही नहीं जाता। दूसरा कितना सुखी है, हम यही देख रहे हैं। हम कितने दु:खी हैं, यही हमें दिखाई दे रहा है। सुख और दु:ख के बीच एक महीन रेखा है, बहुत ही कम अंतर है इसमें। सुख खुशी देने में है, पाने में नहीं। इसलिए खुशी को जो भी क्षण मिले, उसे पकड़ लो और फिर उसे बाँट दो, आप देखेंगे कि वही खुशी दोगुनी होकर आपके पास आ जाएगी। आप इसे फिर बाँट दीजिए, फिर देखो कमाल, आप से बड़ा सुखी कोई नहीं होगा। बड़े-बड़े साधू-महात्मा और रइसजादे भी आपसे जलने लगेंगे, क्योंकि आपके पास कुछ भी न होकर खुशियों की दौलत है। बेशुमार दौलत होने के बाद भी आत्मिक सुख नहीं पाने वाले निर्धन की सूची में आते हैं, दूसरी ओर जेकपाट जीतने वाले युगल आखिर में सुख का जेकपाट जीत तो गए, पर उन्हें तलाक लेना पड़ा।
हम समवेत

No comments: