Total Pageviews

Monday

फतवा... फतवा... फतवा...

अवध के नवाब अमजद अली शाह के वंशज नवाब सैय्यद बदरुल हसन उर्फ पप्पू पोलिस्टर द्वारा कई धार्मिक सीरियलों में भगवान नंदी का किरदार निभाए जाने से कई कट्टरपंथी मौलाना खफा हो गए हैं। इन मौलानाओं ने हसन के खिलाफ कलमा पढ़कर दोबारा मुसलमान बनाने का फरमान तक जारी कर दिया है। एक मुसलमान होने के नाते हिन्दू देवी-देवताओं के किरदार निभाने पर मौलानाओं की तल्ख टिप्पणियों से नवाब बदरुल हसन बुरी तरह आहत और परेशान हैं।
नवाब बदरुल हसन उर्फ पप्पू पोलिस्टर ने कई धार्मिक सीरियलों मसलन ' ओम नमः शिवाय ' , ' संतोषी माता ' , ' जय हनुमान ' और ' सत्यनारायण की कथा ' में नंदी का किरदार निभाया है। उनके बेटे अमन पोलिस्टर ने भी एक सीरियल में भगवान गणेश का किरदार निभाया है। पोलिस्टर ने बताया कि दारुल उलूम ने मेरे किरदार को गैर इस्लामिक काम बताते हुए फतवा जारी किया है। मौलानाओं के व्यवहार से बुरी तरह आहत नवाब ने कहा कि वह कि वह खुदा और उसके रसूल को न सिर्फ मानते हैं बल्कि उनके बताए रास्ते पर भी चलते हैं और सच्चे मुसलमान हैं। उन्होंने कहा कि मैं एक सच्चे मुसलमान के साथ-साथ एक कलाकार भी हूं और अपने पेशे के रूप में अगर भगवान गणेश और नंदी का रोल करता हूं तो कटटरपंथी मुस्लिम उलेमाओं और धर्मगुरुओं की त्यौरियां चढ़ना गैर वाजिब है। नवाब हसन ने बताया कि उनके बेटे अमन पोलिस्टर के एक सीरियल में भगवान गणेश का रोल करने से कुछ उलेमा इतने खफा हो गए कि उन्होंने फोन पर धमकियां देना शुरू कर दिया। एक मौलाना ने तो यहां तक कहा कि सीरियल में गणेश के रूप में तुम्हारे बेटे का सिर कटा था, हम घर आकर उसका सिर काटेंगे। एक साल पहले इसकी रिपोर्ट मुंबई के अंधेरी ईस्ट स्थित मेगवाड़ी थाने में दर्ज कराई गई थी। इतना ही नहीं नवाब हसन के सगे चाचा विलायत हुसैन ने यह कहते हुए पुश्तैनी सम्पति देने से मना कर दिया है कि खुद तो भगवान बन गए, लड़के को भी भगवान बना दिया। यह इस्लाम धर्म विरुद्ध आचरण है। पप्पू पोलिस्टर बताते हैं कि शिवसेना प्रमुख बाला साहेब ठाकरे बेटे अमन के गणेश के किरदार और बोले गए संस्कृत श्लोकों व संवादों से इतने प्रभावित हुए कि वह हमारे घर आए और कहा कि मुस्लिम होकर तुम्हारा बेटा जितनी शुद्ध संस्कृत बोलता है उतना तो मेरा बेटा भी नहीं बोल सकता। भगवान के किरदारों से मिली शोहरत पर फख्र करते हुए नवाब हसन कहते हैं कि हिन्दुस्तान में हिन्दुओं ने जितनी बेपनाह मोहब्बत दी, उतनी मुस्लिम समाज से नहीं मिली। इसका मुझे और मेरे परिवार को जीवन भर अफसोस रहेगा।
नवभारत टाइम्स

No comments: