Saturday

हेलमेट पहना तो गुलाब, नहीं तो...

उड़ीसा की राजधानी में अब हेलमेट पहनना काफी फायदेमंद साबित होने वाला है क्योंकि अब हेलमेट पहनने वालों को एक खूबसूरत लड़की से गुलाब मिलेगा। वहीं जिन लोगों को हेलमेट के बिना पकड़ा गया उन्हें वो लड़की राखी बांधकर भैया बना लेगी।
ये उड़ीसा की ट्रैफिक पुलिस की एक नई स्कीम है जो इसके जरिए हेलमेट पहनने की महत्ता को उजागर करना चाहती है।
इस नेक काम के लिए आगे आएं हैं वहां के इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र और छात्राएं। ये सभी हेलमेट लगाए लोगों को गुलाब का फूल देंगे। वहीं जिन लोगों को बिना हेलमेट के पाया जाएगा उन्हें फूल के बजाए अपने हाथ पर लड़कियों से राखी बंधवानी पड़ेगी।
ऐसे ही एक व्यक्ति रवींद्र मोहंती ने कहा कि अब मैं जरूर हेलमेट पहनूंगा। दरअसल रवींद्र को शहर के राजमहल स्क्वॉयर पर बिना हेलमेट के स्कूटर चलाते हुए पकड़ा गया था और उसके बाद एक लड़की से उनके हाथ पर राखी बंधवाई गई थी।
रवींद्र कहते हैं कि अगर अगली बार भी मैं उसी लड़की के सामने पकड़ा गया तो मुझे काफी बुरा लगेगा इसलिए मैंने हेलमेट पहनना शुरू कर दिया है।
20 साल के अभिमन्यु मोहपात्रा कहते हैं कि लड़की द्वारा गुलाब का फूल मिलने की बात से मैं पहले काफी डर गया था लेकिन बाद में काफी अच्छा लगा। एक खूबसूरत लड़की ने मुझे एक गुलाब का फूल दिया क्योंकि मैंने हेलमेट पहना था।
इस ट्रैफिक नियम का पालन महिलाओं के लिए भी लागू किया गया है। इनके साथ पुरुष इन्हें फूल देंगे या फिर राखी बांधेंगे।
रुक्मिनी साहू बताती हैं कि मुझे उस वक्त बहुत शर्म आई जब एक लड़के ने मेरी कलाई पर राखी बांधी। आगे से ऐसे शर्मनाक हालात से बचने के लिए मैं हमेशा हेलमेट पहनूंगी।
मालूम हो कि उड़ीसा में सड़क हादसों की दर सबसे अधिक है। अधिकारियों के मुताबिक हर रोज राज्य में सड़क हादसों में कम से कम 10 लोगों की मौत होती है।
पुलिस का कहना है कि कई बार फाइन लगने के बावजूद लोग हेलमेट नहीं पहनते इस वजह से उन्हें इस नायाब तरीके के बारे में सोचना पड़ा।
भुवनेश्वर-कटक पुलिस कमिश्नर बी के शर्मा का कहना है कि ट्रैफिक पुलिस हर रोज दो सौ से तीन सौ लोगों ने 100 रुपए फाइन वसूलती है लेकिन फिर भी लोग हेलमेट का इस्तेमाल नहीं करते। कुछ तो फैशन के चक्कर में और कुछ आदत न होने के कारण ऐसा करते हैं।
पहले दिन यानी गुरुवार को ही लड़कियों ने करीब 4 हजार गुलाब के फूल दिए और 2 हजार के करीब राखियां भी बांधी।

No comments: