Monday

मां-बाप के शवों से लिपटी गई दोनों मासूम बेटियों की देह, फिर जलाई गई चिता

जब चार और सात साल की दोनों मासूम बेटियों के साथ माता-पिता की अर्थी उठी तो मौजूद हर आंख से आंसू बह रहे थे। रास्ते में भी जिसकी नजर इस शव यात्रा पर पड़ी वह स्तब्ध रह गया।
श्रीनगर के गुलमर्ग में हादसे का शिकार हुए प्रोफेसर अंड्रस्कर परिवार के चारों शवों का नागपुर में सोमवार को अंतिम संस्कार हुआ गया। गुलमर्ग की गोंडोला राइड पर गए प्रा. जयंत अंड्रस्कर (42) उनकी पत्नी मनीषा (38) और बेटी जानवी (7) एवं अनघा (4) रविवार को दुर्घटना का शिकार हुए थे। मनीषा से लिपटी अनघा और जयंत से लिपटी जानवी को मोक्षधाम घाट ले जाया गया। जयंत के बड़े भाई सतीष ने चारों को मुखाग्नि दी। 


पूरी खबर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें...

No comments: